केंद्रीय सशस्त्र पुलिस - सब इंस्पेक्टर परीक्षा - BSF, CICF, CRPF, ITBPS, SSB प्रैक्टिस सेट

SSC - केंद्रीय सशस्त्र पुलिस - सब इंस्पेक्टर परीक्षा प्रैक्टिस सेट

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस - सब इंस्पेक्टर परीक्षा प्रैक्टिस, BSF, CICF, CRPF, ITBPS, SSB का प्रैक्टिस सेट प्राप्त करे, ये प्रैक्टिस लेटेस्ट है इसे जरुर हल करे, जिससे आप को बहुत फायदा मिलेगा इसे डाउनलोड या देखने  के लिए निचे  लिंक पे क्लिक करे |

68500 शिक्षक भर्ती परीक्षा की गलत कॉपी जांचने वाले शिक्षकों करवाई पकी

गलत कॉपी जांचने वाले शिक्षकों करवाई पकी

#68500_शिक्षक_भर्ती परीक्षा में गलत कॉपी जाचने वाले 21 शिक्षकों का आरोप पत्र देने की तैयारी है परीक्षा नियमंक प्राधिकारी करवाई के लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग को पत्र भेजने की तयारी कर रहा है |

गलत कॉपी जांचने वाले शिक्षकों करवाई पकी
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


पीसीएस-2017 का इंटरव्यू आज से, चुने जायेंगे 650 पीसीएस अफसर

पीसीएस का इंटरव्यू आज से

पीसीएस-2017 का इंटरव्यू आज से, 30 तक चलेगा, 15 दिन में चुन लिए जायेंगे 650 पीसीएस अफसर | साक्षात्कार समय से कराने के लिए आयोग ने रद्द कर दीं छुट्टियाँ | 
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


UPSC असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती को इंटरव्यू जानिए कब से

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती को इंटरव्यू जानिए कब से सुरु
उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग (UPSC) में असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती को इंटरव्यू कल से चलेगा, UPSC में 23 सितम्बर से तृतीय चरण का इंटरव्यू होगा, तृतीय चरण का इंटरव्यू 24 अक्टूबर तक चलेगा |
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


यूपी-बिहार में शिक्षकों के 04 लाख पद खाली

यूपी-बिहार में शिक्षकों के 04 लाख पद खाली

यूपी-बिहार में शिक्षकों के 04 लाख पद खाली, उत्तर प्रदेश के 41 फीसदी प्राथमिक स्कूलों और 42 फीसदी उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक, शिष्य अनुपात बुरी तरह बिगड़ा |
यूपी-बिहार में शिक्षकों के 04 लाख पद खाली
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों के हाथ अब भी खाली

एलटी ग्रेड अभ्यर्थियों के हाथ अब भी खाली

महीने से रिजल्ट की मांग को लेकर एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों के हाथ अब भी खाली, पेपर लीक मामले में फंसने से 29 जुलाई 2018 से रुकी है प्रकिया |
शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों के हाथ अब भी खाली
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में लागू होगा आरक्षण का नया नियम

प्रोफेसर भर्ती में लागू होगा आरक्षण का नया नियम

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में लागू होगा आरक्षण का नया नियम: विषय नहीं, संस्था स्तर पर मिलेगा रिजर्वेशन, तैयारी पूरी | असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में लागू होगा आरक्षण का नया नियम: 2500 पदों का अधियाचन तैयार करके भर्ती निकालने की चल रही है तैयारी |

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

एक और शिक्षिका पर लटक रही फर्जी डिग्री की तलवार

शिक्षिका पर लटक रही फर्जी डिग्री की तलवार

एक और शिक्षिका पर लटक रही तलवार क्योकि बीएड की फर्जी डिग्री लगाकर नौकरी करने का मामला प्रकाश में आया है एस आईटी की जाच में मामले का खुलाशा हुआ |
फर्जी डिग्री की तलवार
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

प्रेरणा के विरोध में आज निकलेगा कैंडल मार्च

आज प्रेरणा के विरोध में निकलेगा कैंडल मार्च- Primary ka master

बरेली क्षेत्र के परिसदीय स्कूल में कार्यरत शिक्षको व उत्तर प्रदेशीय कार्यरत शिक्षक संघ ने प्रेरणा के विरोध में कल विधायक को सौंपा था ज्ञापन आज निकलेगा कैंडल मार्च primary ka master |
आज निकलेगा कैंडल मार्च
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


बच्चा चोरी की अफवाह से डरे बच्चे

बच्चा चोरी की अफवाह से डरे बच्चे

बच्चा चोरी की अफवाह से डरे बच्चे, नहीं जा रहे स्कूल, कुछ अभिभावक बच्चों के स्कूल से नाम कटवाने की सोच रहे, असुरक्षा की भावना के कारण अभिभावक भी सहमे |
बच्चा चोरी की अफवाह से डरे बच्चे
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

प्रेरणा एप को लेकर शिक्षक व शिक्षामित्र में बवाल

प्रेरणा एप को लेकर शिक्षक व शिक्षामित्र में हुआ बवाल

प्रेरणा एप को लेकर शिक्षक व #शिक्षामित्र आये आमने-सामने क्योकि शिक्षक प्रेरणा एप को सरकार का तुगलकी फरमान बता रहा है वाही शिक्षामित्र प्रेरणा एप को स्कूल के हित मर बता रहा है |

इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

बीएलओ ड्यूटी से तंग शिक्षामित्र ने दी जान

ड्यूटी से तंग आकर शिक्षामित्र ने दी जान

कोतवाली क्षेत्र के कसिया नन्दपुर के एक #शिक्षामित्र ने घर में फासी लगा कर जान दे दी, बीएलओ ड्यूटी से तंग होकर शिक्षामित्र ने दी जान, जेब मे मिला सुसाइड नोट, खंड शिक्षा अधिकारी समेत  3 पर उत्पीड़न का आरोप |
शिक्षामित्र ने दी जान
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


एबीआरसी पर अश्लीलता का केस दर्ज प्रधानाध्यापिका की तरफ से

एबीआरसी पर अश्लीलता का केस दर्ज

एबीआरसी पर अश्लीलता का केस दर्ज, पांच दिन पहले हुई घटना में प्रधानाध्यापिका की तहरीर पर दर्ज हुआ मुकदमा, बिएलओ डियूटी कटवाने को लेकर विवाद के बाद दी गई थी तहरीर |

प्रधानाध्यापिका की तरफ से
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

69000 शिक्षक परीक्षा के परीक्षार्थियों को बधाई, कामयाबी मिलेगी - रविश कुमार

रविश कुमार - 69000 शिक्षक परीक्षा के परीक्षार्थियों को बधाई

उत्तर प्रदेश में #69000_शिक्षक_भर्ती की बहाली से जुड़े परीक्षार्थियों ने अपनी लोकतांत्रिकता का अच्छा परिचय दिया है। अदालती तारीख़ों में परीक्षा का परिणाम सात-आठ महीनों से फंसा है। मैं इस परीक्षा से जुड़े छात्रों के प्रदर्शनों की तस्वीरें देखता रहता हूं। रविवार को एक तस्वीर मिली जिसमें बहुत सारी लड़कियां अपने हाथ ऊपर की हुई हैं। सबने अपने हाथ जोड़े हैं ताकि सामने खड़ी पुलिस लाठी न बरसाए। उनकी इस अपील का पुलिस पर असर भी हुआ। राज्य की क्रूरताओं का सामना करने का नैतिक बल गांधी जी देकर गए हैं। यह वही नैतिक बल है जिसके दम पर लड़कियों ने अपनी और साथी लड़कों की रक्षा की। प्रदर्शन की इन तस्वीरों में शामिल लड़कों और लड़कियों की प्रतिबद्धता की सराहना करना चाहता हूं। वीडियो और तस्वीरों में लड़के लड़कियां आपस में घुलकर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। मेरे लिहाज़ से यह सुंदर तस्वीर है। मुझे इन परीक्षार्थियों पर गर्व है। सलाम।

इस आंदोलन की अच्छी बात है कि सभी उत्तर प्रदेश के अलग-अलग ज़िलों से आए हैं और हाथ में तख़्ती बैनर लेकर आए हैं। इस वक्त में जब मीडिया की प्राथमिकता बदल गई है ये छात्र- छात्राएं अलग-अलग ज़िलों से आकर प्रदर्शन कर रहे हैं। सुखद बात यह भी है कि इस आंदोलन में लड़कियां भी अच्छी संख्या में आई हैं। शायद सभी पहली बार मिल रहे होंगे। लड़कियां भी आपस में धरना स्थल पर मिल रही होंगी। इनका कहना है कि सरकार ने जो पात्रता तय की है उसी के अनुरूप परीक्षा पास कर चुके हैं। जब सरकार ने फार्म निकाला तो परीक्षा की तारीख में मात्र में एक महीने का वक्त दिया। अब रिज़ल्ट आने में आठ महीने की देरी क्यों हो रही है।

अपने रिज़ल्ट की मांग को लेकर छात्रों ने लखनऊ स्थित एस सी ई आर टी के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन चला। आठ महीने से ये छात्र परीक्षा के परिणाम का इंतज़ार कर रहे हैं। अदालत में आठ बार तारीख़ बढ़ चुकी है। सात सुनवाई में महाधिवक्ता गए ही नहीं। इसलिए सुनवाई नहीं होती है और तारीख़ बढ़ जाती है। शिक्षा मित्र कोर्ट गए और जीत गई। सरकार इस फैसले को लेकर डबल बेंच गई। शिक्षा मित्रों को पिछली नौकरी के कारण ग्रेस मार्क मिले हैं जिसके कारण नई परीक्षा में ज़्यादा अंक लाने वाले छात्र पिछड़ गए। इस कारण मामला अदालत में चला गया। धरने में शामिल छात्र कोर्ट से हार गए लेकिन अब वे चाहते हैं कि सुनवाई जल्दी हो और परिणाम आए। मार्च 2019 में सिंगल बेंच का फैसला आया था। इस परीक्षा के परीक्षार्थियों का समूह कहता है कि मार्च के आदेश से 110 नंबर लाने वाले छात्र बाहर हो जाएंगे। सरकार ने परीक्षा के बाद पैमाना बनाकर गलती की। उनकी यह बात ठीक लगती है। तो जो समझ आया कि इस परीक्षा के परीक्षार्थियों में दो समूह हैं। दोनों आमने सामने है। सरकार फैसले के ख़िलाफ़ डबल बेंच चली गई है। डबल बेंच की सुनवाई के लिए सरकार की तरफ से महाधिवक्ता उपस्थित नहीं हो रहे हैं। 19 सितंबर को सुनवाई है।

मीडिया ने इन छात्रों ने अपनी सीमा से बाहर कर दिया है। ये छात्र भी मीडिया के खेल को समझने लगे हैं। मीडिया को भरोसा है कि ये छात्र उसके हिन्दू मुस्लिम प्रोपेगैंडा के सवर्था गुलाम हैं तो वह ग़लत है। फिर भी मीडिया का कारोबार जनता के बग़ैर चल जाता है। तस्वीरों में छात्रों को देखकर भरोसा हुआ कि अभी सब नहीं मरे हैं न ग़ुलाम हुए हैं। भले ही इन लोकतांत्रिक प्रदर्शनों की चर्चा दिल्ली या कहीं और नहीं हैं मगर मैं इन्हें देखकर उत्साहित हूं। नागरिक बनने की प्रक्रिया छोटे से ही समूह में सही मगर जारी है। अंत में सरकार को जवाबदेह बनाने के लिए उसके सामने खड़ा होना ही पड़ता है। 69000 शिक्षक बहाली के छात्रों ने करके दिखा दिया है। कृपया मीडिया की भूमिका पर गंभीरता से विचार कीजिए जो शर्मनाक हो चुका है।

27 अगस्त को इन्होंने पहला धरना दिया था। 11 और 12 सितंबर को 36 घंटे का प्रदर्शन किया। इस परीक्षा में चार लाख से अधिक परीक्षार्थी रिज़ल्ट का इंतज़ार कर रहे हैं। संख्या के लिहाज़ से थोड़ा निराश हूं। काश सभी चार लाख शामिल होते। अगर कोई आर्थिक मजबूरी के कारण धरना में शामिल नहीं हो सका तो उसे छूट मिलनी चाहिए लेकिन जो लोग घर बैठकर स्वार्थ और चतुराई के कारण नहीं आए उन्हें समझना चाहिए कि उनके जैसे ही लोग हैं जो लोकतंत्र की आकांक्षा को कमज़ोर कर रहे हैं। वे घर बैठे लड्डू खा लेना चाहते हैं। फिर भी ऐसे स्वार्थी लोगों की परवाह न करते हुए चंद सौ लोगों ने जो बीड़ा उठाया है वह इस वक्त की सुंदर तस्वीर है। हो सकता है कि रिज़ल्ट आने पर धरना-प्रदर्शन में शामिल कुछ का चयन न भी हो लेकिन तब भी उन्होंने एक जायज़ हक़ की लड़ाई लड़ी है और यह लड़ाई जीवन भर काम आएगी। उनके भीतर का भय छंटा है।

उम्मीद है संघर्ष के दौरान लड़के-लड़कियों ने कुछ सीखा होगा। राज्य व्यवस्था की बेरूख़ी को महसूस किया होगा। जिन सरकारों को हम धर्म या झूठ के आधार पर चुन लेते हैं या सही समझ के आधार पर चुनने के बाद भी ठगे जाते हैं, उनके सामने खड़े होने का यही एकमात्र जायज़ रास्ता है। अहिंसा और धीरज का रास्ता। मुझे भरोसा है कि आपने प्रदर्शन के दौरान अपने अकेलेपन को महसूस किया होगा। आपके भीतर झूठ पर आधारित अंध राष्ट्रवाद भरा गया। सांप्रदायिकता ने आपको खोखला कर दिया है। वो अब भी आप सभी के भीतर है। आपने अभी तक उसे अपने कमरे से बाहर नहीं निकाला है। इसलिए नागरिकता और लोकतांत्रिकता के इस बेजोड़ प्रदर्शन के बाद भी राज्य का चेहरा नहीं बदलेगा। क्योंकि आप ही नहीं बदले।

किसी भी प्रदर्शन की प्रासंगिकता सिर्फ परिणाम तक नहीं सीमित नहीं होनी चाहिए। अगर आप और सरकार की न बदले तो वह यातना दूसरे परीक्षार्थियों पर जारी रहेगी। काश अच्छा होता कि आपके प्रदर्शन में दूसरी परीक्षाओं के पीड़ित भी शामिल होते या आप भी उनके छोटे प्रदर्शन में शामिल होकर बड़ा कर देते और राज्य के सामने एक सवाल रखते कि आखिर कब हमें पारदर्शी और ईमानदार परीक्षा व्यवस्था मिलेगी? आपके भीतर का स्वार्थ राजनेताओं के काम आ रहा है। आपको एक दिन इस अंध राष्ट्रवाद के खेल को समझना ही होगा।

आप नौजवानों से मुझे कोई शिकायत नहीं। उम्मीद भी नहीं है। मैं इसका कारण जानता हूं। आपके साथ धोखा हुआ। जौनपुर, संभल या गाज़ीपुर या उन्नाव हो, वहां के स्कूलों और कालेजों को घटिया बना दिया गया। क्लास में अच्छे शिक्षक नहीं रहे। आपका छात्र जीवन बेकार गया। काश आपको अच्छी और गुणवत्तावाली शिक्षा मिली होती तो आप और लायक होते और देश और सुंदर बनता। इन हालातों में बदलाव के कोई आसार नहीं है। बस एक झूठी उम्मीद पालने की ग़लती करूंगा। आपमें से जब कोई शिक्षक बनेगा तो अच्छा और ईमानदार शिक्षक बनेगा। ख़ुद भी पढ़ेगा और छात्रों के आंगन को ज्ञान से भर देगा। ऐसा होगा नहीं फिर भी उम्मीद करने में क्या जाता है। फिलहाल प्रदर्शनों के प्रति आपकी प्रतिबद्धता के लिए बधाई देना चाहूंगा। आपने बेज़ान और डरपोक होते इस लोकतंत्र में जान फूंक दी है। ये पोस्ट यहाँ से लिया गया है


इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

69000 शिक्षक भर्ती में 19 को सुनवाई के संबंध में बीएड टीम की राय सुनिए

69000 शिक्षक भर्ती में 19 को सुनवाई के संबंध में बीएड टीम की राय

#69000_शिक्षक_भर्ती - मैं यह चाहता हु की 19 को महाधिवक्ता आये और बहस करें लेकिन यदि सरकार ने अबकी बार फिर से तारीख लेने की कोशिश की तो बीएड/बीटीसी के वकीलों को इसका विरोध करना ही होगा।।आपलोग खुद सोचिये अगर हमारी टीम के प्रशान्त सर् ने आगे आकर डेट का विरोध न किया होता तो क्या उनका सबमिशन पूरा हो पाता।।दोस्तों कोर्ट अगर सरकार को सुनना चाहती है तो इसका मतलब यह नही है कि जबतक सरकार न आये हमारे वकील भी मौन बने रहें, आखिर इतनी फीस उनको किसबात के लिए दी जा रही है।।।

69000 शिक्षक भर्ती में बीएड टीम की राय सुनिए

आगे केवल इतना ही कहूँगा की महाधिवक्ता जी यदि आकर 19 को बहस करते हैं तो अच्छी बात है इस स्थिति में महाधिवक्ता के बाद बीटीसी टीम के दो अधिवक्ताओ में कोई एक बहस करे फिर उसके बाद हमारी टीम के जयदीप माथुर सर् बहस करेंगे।।।बीएड/बीटीसी की टीम के अधिवक्ताओं की बहस के बाद कुछ टीम के विद्वान अधिवक्ताओ का सबमिशन भी होना है तो उनको भी कोर्ट को समय देना ही पड़ेगा।।।

नोट- दोस्तों इस कोर्ट में सुनवाई केवल 4-5, ही होंगी और ज्यादा दिन केस भी नही चलेगा अब यह देखना है कि हमारे सब्र का इम्तेहान भगवान कबतक लेते हैं।
इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-

15 सितम्बर का इतिहास, इंडिया और विदेश की प्रमुख घटनायें - History of 15 September, From 1707

आज का इतिहास यानि 15 सितम्बर का इतिहास में इंडिया और विदेश की ऐतिहासिक घटनायें

आज का इतिहास - 15 September Ka Itihas में इंडिया (India) और दुसरे देशो की बहुत महत्वपूर्ण घटनाए हुई है जो 15 सितम्बर के इतिहास (15 September in History) के पन्नो में दर्ज हो गया है जो हम आप के सामने लाये है 15-September-1707 से लेके अब तक के महत्वपूर्ण घटनाओं का पूरा इतिहास | अगर आप को जानना हो या पढना हो तो आइये जानते है आज के दिन (today in history) का पूरा इतिहास पुरे जानकारी के साथ | आप इसे डाउनलोड भी कर सकते है |
today in history

पढ़े 15 September Ka Itihas - 1707 वर्ष से अब तक की प्रमुख घटनायें की पूरी सूचि -
History of 15 September,
History of 15 September, 
History of 15 September, From 1707
History of 15 September, From 1707

दुसरे दिन का इतिहास पढ़े

डीएलएड प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन

डीएलएड प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन

निजी स्कूल की वसूली और रुपये नहीं देने पर फेल करने का आरोप लगाते हुए 2017 से जुड़े अभियार्थी ने 13 सिम्बर को परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय एलनगंज पर प्रदर्शन किया |

डीएलएड प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन

इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


दो से तीन महीने में स्कूलों तक पंहुच जाएंगे टैबलेट

प्रेरणा एप नही बच पाएंगे लापरवाह शिक्षक, टैबलेट देने की तैयारी

बेसिक शिक्षा की दशा सुधरने के लिए सरकार की ओर से लांच "प्रेरणा एप" का विरोध भी हो रहा है दो से तीन महीने में स्कूलों तक पंहुच जाएंगे टैबलेट जिससे प्रेरणा एप से नही बच पाएंगे लापरवाह शिक्षक और अधिकारी भी |
दो से तीन महीने में स्कूलों टैबलेट

इससे जुडी दूसरी ख़बर पढ़े , निचे देखे और क्लिक करे:-


14 सितम्बर का इतिहास, इंडिया और विदेश की प्रमुख घटनायें - History of 14 September, From 1723

आज का इतिहास यानि 14 सितम्बर का इतिहास में इंडिया और विदेश की ऐतिहासिक घटनायें

आज का इतिहास - 14 September Ka Itihas में इंडिया (India) और दुसरे देशो की बहुत महत्वपूर्ण घटनाए हुई है जो 14 सितम्बर के इतिहास (14 September in History) के पन्नो में दर्ज हो गया है जो हम आप के सामने लाये है 14-September-1723 से लेके अब तक के महत्वपूर्ण घटनाओं का पूरा इतिहास | अगर आप को जानना हो या पढना हो तो आइये जानते है आज के दिन (today in history) का पूरा इतिहास पुरे जानकारी के साथ | आप इसे डाउनलोड भी कर सकते है |
today in history

पढ़े 14 September Ka Itihas - 1723 वर्ष से अब तक की प्रमुख घटनायें की पूरी सूचि -
History of 14 September
History of 14 September
History of 14 September, From 1723
History of 14 September, From 1723

दुसरे दिन का इतिहास पढ़े

69000 शिक्षक भर्ती की 12 सितंबर को हुई सुनवाई का आदेश हुआ जारी