टीईटी 2019 स्पेशल : टीईटी देने वाले अभियार्थी एक बार अवश्य पढ़ें

विद्यालयों में अध्यापक की आप की इच्छा टीईटी के माध्यम से सच साबित हो सकती है, अगर आप ग्रेजुएट हैं - बीएड (BED) या बीटीसी (BTC) या बीटीसी के समकक्ष योग्यता, डीएलएड (D.El.Ed), बीएलएड (B.EL.ED), डीएड (D.ed) | फिर भी आप को राज्य स्तरीय विद्यालयों में शिक्षक के रूप में नौकरी पाने के लिए टीईटी (TET) एग्जाम पास करनी होगी। पर कुल आवेदकों में से टीईटी (TET) में 15 से 20 प्रतिशत आवेदक ही सफल हो पाते हैं। इस परीक्षा का स्तर क्या है और कैसे इसे हल करना चाहिए, यहाँ इस बारे में हम सभी को विस्तार से बताएं गे कृपया एक बार पूरे लेख को जरूर पढ़ें और अपने सभी दोस्तों तक इस जानकारी को पहुचाये ||

शिक्षक के क्षेत्र में कैरियर बनाना हो तो इसके लिए टीईटी (Teacher Eligibility Test) शिक्षक पात्रता एग्जाम के माध्यम से राह बनती है।

22 दिसम्बर 2019 को प्रस्तावित टीईटी के आयोजन के लिए पीएनपी (परीक्षा नियामक प्राधिकारी) अगले महीने 1 नवम्बर से 20 नवम्बर तक ऑनलाइन आवेदन पत्र भरे जाएंगे। स्कूलों की प्राथमिक कक्षाओं (1 से 5) या उच्च प्राथमिक कक्षाओं (6 से 8) में पढ़ाने के इच्छुक युवा इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन कर सकतें हैं। मुख्य रूप से राज्य सरकार के अधीन स्कूलों में यह परीक्षा अध्यापक के रूप में नियुक्ति का मौका देती है।

 प्रश्न-पत्र का प्रारूप जाने 
बहुविकल्पीय प्रश्नों पर आधारित इस परीक्षा में एक-एक अंक के कुल 150 सवाल पूछे जाएंगे। प्रश्न हिन्दी के साथ-साथ अंग्रेजी में भी होंगे। इनके जवाब देने के लिए 150 मिनट (ढाई घण्टे) का समय मिलेगा। परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का नियम नही है। इसलिए सवालों के जवाब गलत होने पर भी कोई अंक नही काटा जाएगा।इस बार पेपर 1st (1 से 5) को सुबह की पाली और पेपर 2nd (6 से 8) को दोपहर की पाली में आयोजित किया जाएगा।

 पेपर-1 ↔ प्राथमिक स्तर (1 से 5) 
कक्षा 1 से 5 के लिए होने वाले इस पेपर में 5 भाग होंगे। हर भाग से 30-30 प्रश्न पूछें जाएंगे। इन भागों के नाम इस प्रकार हैं बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र, भाषा प्रथम हिंदी सबके के लिए अनिवार्य, भाषा द्वितीय अंग्रेजी,संस्कृत, किसी 1 को लेना है,गणित और पर्यावरण अध्ययन।इन प्रश्नों का पाठ्यक्रम हाईस्कूल तक का रहेगा।
 पेपर-2 ↔ उच्च प्राथमिक (6 से 8) 
इस पेपर में बालविकास एंवम शिक्षा शास्त्र, भाषा प्रथम हिंदी सबके लिए अनिवार्य, भाषा द्वितीय संस्कृत, अंग्रेजी में से कोई एक लेना है 30 सवाल पूछें जाएंगे। इन भागों के प्रश्नों का जवाब देना सभी के लिए जरूरी है।इसके साथ 60 प्रश्नों का एक और भाग होगा। इसे शिक्षण जरूरतों के अनुरूप बनाया गया है। जो उम्मीदवार गणित और विज्ञान का शिक्षक बनना चाहते हैं उन्हें इस भाग में गणित और विज्ञान के सवालों को हल करना होगा। सामाजिक विषय का शिक्षक बनने वालों को इस भाग में सामाजिक विज्ञान के सवालों को हल करना होगा।इन प्रश्नो का पाठ्यक्रम इंटरमीडिएट स्तर का होगा।

➤ नोट : जो बीएससी (Bachelor of Science) या बीटेक (B.Tech) है उनको गणित-विज्ञान का पार्ट हल करना है, और जो बीए (B.A) या बीकॉम (Bachelor of Commerce) है उनको सामाजिक विज्ञान का पार्ट हल करना है कुल 60 प्रश्न रहे गा।

 परीक्षा केंद्र की जानकारी 
उत्तरप्रदेश के 75 जिला को केंद्र बनाया जाएगा, जो अभ्यर्थी जो जिला परीक्षा सेन्टर देगा, उसी जिले पर एग्जाम होगा और उसी जिले से टेट की मार्कशीट भी मिलेगी।

➤ नोट : कोई भी अभ्यर्थी कोई भी जिला परीक्षा सेंटर दे सकता है।

 टीईटी सर्टिफिकेट या स्कोरकार्ड 
इस परीक्षा में शामिल होने वाले सभी उम्मीदवारों को अंक प्रमाणपत्र दिया जाएगा, लेकिन जो उम्मीदवार समान्यवर्ग 60 फीसदी अंक (150 में 90 अंक) और ओबीसी,एससी,एसटी 55 फीसदी(150 में 82 अंक)प्राप्त करेगा उन्हें ही टीईटी सर्टिफिकेट मिलेगा।

➤ नोट - 10 प्रतिशत सामान्य वर्ग आरक्षण का लाभ टीईटी में नही मिलेगा, 150 में 90 अंक लाने पर ही पास माना जायेगा।
इन पर जरुर करें फोकस
● प्रश्नों को हल करते समय स्पीड का ध्यान दें।
● निगेटिव मार्किंग न होने के कारण अधिक से अधिक प्रश्न हल करें।
● मैथ्स के बेसिक क्लीयर करें।
● कठिनता का स्तर बारहवीं अथवा ग्रेजुएशन के हिसाब से होगा।
● भाषा पर पकड़ तथा कौशल आवश्यक है।
● समय के मोल को पहचानें.

टीईटी का सिलेबस सीटीईटी से मिलता जुलता रहता है, सीटेट की अपेक्षा थोड़ा सरल रहता है, अकसर छात्रों की यह शिकायत सुनने को मिलती है कि इसमें उन्हें समय कम मिला, इसलिए परीक्षा में बैठने वाले छात्रों को यह सलाह दी जाती है कि वे प्रश्नो को हल करते समय अपनी गति पर ध्यान दें। यह तभी सम्भव हो पाता है ,जब तैयारी के दौरान मॉडल पेपर को को निश्चित समय के दौरान हल करने की प्रैक्टिस की जाए। परीक्षा भवन में छात्र उसी खंड को पहले हल करें जिसमे अछि पकड़ हो।