देश की बेटी ने खोजा प्लास्टिक से निपटने का तरीका

आईआईटी दिल्ली में शोध कर रही एक छात्रा उमा द्विवेदी ने प्लास्टिक नाम के 'राक्षस' को खत्म करने का रास्ता खोज लिया है। उमा के इस तरीके में प्लास्टिक का इस्तेमाल डीजल बनाने के लिए किया जाएगा। यानी एक तरफ तो प्लास्टिक की समस्या से मुक्ति मिलेगी, दूसरी ओर इससे डीजल बनेगा, जिसके लिए भारत को दूसरे देशों पर निर्भर रहना पड़ता है। प्लास्टिक से बने इस डीजल की क्वालिटी बाजार में मिल रहे डीजल के लगभग जैसी है। फिलहाल इसका उपयोग खड़े रहने वाले इंजनों या जनरेटर इत्यादि में किया जा सकता है, लेकिन आने वाले समय में इसे वाहनों में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।

देश की बेटी ने खोजा प्लास्टिक

नष्ट होने में हजारों साल का वक्त!

उमा द्विवेदी ने अमर उजाला को बताया कि दिल्ली-मुंबई जैसे शहरों में रोज निकलने वाले कुल ठोस कचरे में प्लास्टिक की मात्रा 12-15 फीसदी तक होती है। इसमें लगभग आधा सिंगल यूज प्लास्टिक होता है। हाइड्रोकार्बन पॉलीमर से बना यह कचरा पॉलिएथिलीन (PE) और पॉलिप्रोपीलीन (PP) से बना होता है। प्राकृतिक रुप से इसके नष्ट होने में हजारों साल का समय लग सकता है, लेकिन तकनीकी के जरिए इसे डीजल में बदला जा सकता है।

हानिकारक ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन

ध्यान देने की बात है कि प्लास्टिक प्राकृतिक रुप से गलने के दौरान भी डायोक्सिन, फ्यूरॉन के अलावा प्रकृति के लिए खतरनाक हानिकारक ग्रीन हाउस जैसी गैसों का उत्सर्जन करता है। यानी प्राकृतिक रुप से गलने के दौरान भी प्लास्टिक दुनिया को जहर दे रहा होता है, लेकिन इसके डीजल में बदलने की तकनीकी से इस समस्या से भी निबटा जा सकता है।

कितना उपयोगी है प्लास्टिक से बना डीजल

शोध छात्रा उमा द्विवेदी ने बताया कि लगभग एक साल के प्रयास के बाद उनका बनाया डीजल बाजार में बिक रहे डीजल की तुलना में 70-80 फीसदी गुणवत्ता वाला है। इसे बाजार में बिक रहे डीजल में 60:40 के अनुपात में मिलाकर (बायोडीजल की तरह) इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस डीजल को पूरी तरह बाजार में उपलब्ध डीजल की क्वालिटी तक लाने के लिए उनका प्रयास चल रहा है।